Swami Vivekananda Biography in Hindi

Swami Vivekananda Biography in Hindi : आइये जानते हैं स्वामी विवेकानंद जी बायोग्राफी के कुछ अनसुने किस्से के बारें में जिन्होंने उनको विश्व में इतनी प्रसिद्धि दिलाई |

Swami Vivekananda Biography in Hindi

1. Swami Vivekananda Biography in Hindi

स्वामी विवेकानंद का जन्म 12 जनवरी 1863 को कोलकाता (अब कोलकाता), बंगाल में हुआ। उनका वास्तविक नाम ‘नरेंद्रनाथ दत्त’ था। वे वेदांत दर्शन के प्रसिद्ध और प्रभावशाली आध्यात्मिक गुरु थे। स्वामी विवेकानंद ने भारतीय आध्यात्मिकता के दर्शन को अमेरिका और यूरोप के हर देश में प्रस्तुत किया। उनके विचारों और आध्यात्मिक ग्यान के कारण, आज भी उन्हें विश्व के एक प्रमुख आध्यात्मिक नेता के रूप में माना जाता है। इस लेख में हम स्वामी विवेकानंद की जीवनी के विभिन्न पहलुओं पर विस्तार से चर्चा करेंगे।

2. Swami Vivekananda Biography in Hindi- Overview

DetailInformation
नामस्वामी विवेकानंद
जन्म तिथि12 जनवरी 1863
जन्म स्थानकोलकाता (अब कोलकाता), बंगाल प्रेसीडेंसी, ब्रिटिश भारत (वर्तमान कोलकाता, पश्चिम बंगाल, भारत)
मृत्यु तिथि4 जुलाई 1902
स्थानबेलूर मठ, बंगाल प्रेसीडेंसी, ब्रिटिश भारत (वर्तमान पश्चिम बंगाल, भारत)
गुरु/शिक्षकरामकृष्ण परमहंस
साहित्यिक कार्य“Raja Yoga”
धर्महिन्दू
दर्शनAdvaita Vedanta, Raja Yoga
योगदानपश्चिमी दुनिया को वेदांत और योग के भारतीय दर्शन से परिचित कराया। समाज सेवा की दिशा में काम किया, अंधविश्वासों के खिलाफ लड़ाई लड़ी और समाज में महिलाओं की स्थिति को ऊपर उठाया।
संगठनरामकृष्ण मठ और रामकृष्ण मिशन की स्थापना की.
राष्ट्रीयताभारतीय
जन्मोत्सवभारत में राष्ट्रीय युवा दिवस के रूप में मनाया जाता है

3. Swami Vivekananda Biography in Hindi- जन्म और परिवार

स्वामी विवेकानंद का जन्म 12 जनवरी 1863 को कोलकाता (अब कोलकाता), बंगाल में हुआ। उनके पिता का नाम सरकारी करमचारी विश्वनाथ दत्त और माता का नाम भुवनेश्वरी देवी था। विवेकानंद के युवा दिवस के रूप में मनाए जाने वाले 12 जनवरी को उनकी जयंती मनाई जाती है। उनके परिवार को एक कायस्थ परिवार के रूप में जाना जाता है और वे अपने धर्मिक और आध्यात्मिक मान्यताओं के लिए प्रसिद्ध थे।

4. Swami Vivekananda Biography in Hindi- शिक्षा

विवेकानंद ने अपनी प्राथमिक शिक्षा कोलकाता में प्राप्त की। उन्होंने प्राथमिक शिक्षा में प्रथम स्थान अपना साधारित किया और अधिकांश विद्यार्थियों से बेहतर अंक प्राप्त किए। उनके पिता की मृत्यु के बाद, उन्होंने चर्चित इंग्लिश स्कूल में अध्ययन किया की जिसके पश्चात उन्होंने ‘प्रेसिडेंसी कॉलेज’ में प्रवेश लिया। वहां उन्होंने कक्षा 12 तक की शिक्षा हासिल की और अधिकांश कारिगरों के माध्यम से प्रश्न का समाधान किया। उन्होंने विशाल साहित्यिक सघाने में अपना और नया आंदोलन बढ़ाया और संगठनों के रूप में काम किया।

5. Swami Vivekananda Biography in Hindi- गुरु श्री रामकृष्ण से मुलाकात

Swami Vivekananda Biography in Hindi में सबसे महत्वपूर्ण बात थी उनकी मुलाकात उनके गुरु और प्रेरणास्रोत श्री रामकृष्ण परमहंस से। प्रारंभ में, विवेकानंद श्री रामकृष्ण परमहंस की अद्वैत दर्शन की तरफ आकर्षित हुए और उनसे गहरा आध्यात्मिक बंधन बना। श्री रामकृष्ण परमहंस ने विवेकानंद को मानवता में सेवा करने के महत्त्व को सिखाया और उनका विचार निकाला कि प्रत्येक मनुष्य में परमात्मा की छवि होती है। इस बात के कारण उन्होंने अपने समर्पित जीवन का निर्धारण किया: “अपने ब्रह्माण्ड में मनुष्य महासत्ता में धनी है। मनुष्य के अंदर जो लड़ेबाजियाँ होती हैं, शक्तियाँ होती हैं, वे पूर्व से ही हमें मिली हुई हैं।” वहां उन्होंने भी यह सिखाया कि प्रत्येक मनुष्य मनुष्य में ईश्वर की छवि होती है, और इसलिए, मानव सेवा ही परमात्मा की सेवा है।

6. Swami Vivekananda Biography in Hindi- साधु और उनका मिशन

उनके गुरु की मृत्यु के बाद, विवेकानंद ने अपने गुरु के धार्मिक और आध्यात्मिक सिद्धांतों को प्रदर्शित करने के लिए एक संन्यासी के रूप में अपना जीवन समर्पित करने का निर्धारण किया। उन्होंने श्रांति मठ की स्थापना की, जो एक प्रभावशाली आध्यात्मिक संगठन बन गया। उनके द्वारा श्रांति मठ, रामकृष्ण मिशन के रूप में प्रस्तुत किया गया, जो आज भी मांग के अनुसार अनुयायों की सेवा कर रहा है। उन्होंने अपने जीवन के लिए वेदान्त दर्शन का अध्ययन किया, उसे अमेरिका और यूरोप में प्रचारित किया और कई सार्वजनिक और निजी व्याख्यानों का आयोजन किया।

7. Swami Vivekananda Biography in Hindi: शिकागो में उनके द्वारा दिया गया प्रतिष्ठित भाषण

Swami Vivekananda Biography in Hindi में उनकी विदेश यात्राएँ जिनमें उनके द्वारा प्रतिष्ठित भाषण का उल्लेख न हो, तो ये कहना गलत नहीं होगा कि उनकी जीवनी अधूरी है। स्वामी विवेकानंद की विश्व यात्राएं और उनके उपदेशों की वजह से, वे अमेरिकी आध्यात्मिक विचारधारा के सत्यनिष्ठ पुरष बन गए। वे 1893 में अमेरिका में आयोजित विश्व धर्म महासभा में भारत की पक्षधर के रूप में प्रतिष्ठित हुए। उन्होंने अपने द्वारा प्रस्तुत किए गए भारतीय धर्म, आध्यात्मिकता और शांति के सिद्धांतों पर उनके मध्यवर्ती भाषणों के कारण उन्हें खास रुप से युगांतर बना दिया। स्वामी विवेकानंद ने अपने प्रारंभिक भाषण “मेरे अमेरिकी भाइयों और बहनों” के साथ शुरू किया, जिसने लोगों के दिलों को छू लिया। उनके संबोधन की प्राथमिकता इस बात को बताती है कि अमेरिकी प्रशंसा जोर पकड़ा हुआ था।

8. Influence in the West and East:

Swami Vivekananda Biography in Hindi में ये बताया जाता है कि उनका पूर्व और पश्चिम की दुनिया में प्रभाव कैसे बना। विवेकानंद की प्रथम यात्रा के बाद, उनका प्रभाव पश्चिमी देशों में विस्तारित हुआ। उन्होंने अमेरिका, यूरोप और इंग्लैंड में धार्मिक और आध्यात्मिक विचारधारा की प्रचार करने के लिए यात्राएं की। उनके विचारों को पढ़ने और सुनने के लिए लोगों की मांग बढ़ी और वे विचारशील व्यक्ति के रूप में मान्यता प्राप्त कर गए। इसके परिणामस्वरूप, उन्हें कई युवा समूहों का प्रभावशाली नेतृत्व करते हुए देखा गया, जिन्होंने अमेरिका और यूरोप में वेदांत और आध्यात्मिकता के बारे में उनके विचारों को फैलाया।

विवेकानंद का प्रभाव न केवल पश्चिमी दुनिया में बल्कि पूरे पूर्वी दुनिया में भी दिखाई दिया। भारत के अलावा भी, उनके विचारों और जीवनशैली के बारे में लोगों की मान्यताएं बढ़ीं। उनकी उपदेशों और आध्यात्मिकता के प्रचार के कारण, विवेकानंद को युवा दिवस के रूप में मान्यता प्राप्त हुई है, जो प्रत्येक वर्ष 12 जनवरी को मनाया जाता है।

9. Swami Vivekananda Biography in Hindi- दर्शन और शिक्षाएँ

Swami Vivekananda Biography in Hindi में उनके दर्शन और शिक्षा के बारे में भी बताया गया है। स्वामी विवेकानंद ने वेदान्त दर्शन पर अपना जीवन समर्पित किया और उसे विश्व के लोगों में प्रस्तुत किया। वेदान्त दर्शन के अनुसार, हम सभी एक आत्मा के अविनाशी रूप हैं और सभी मनुष्यों में परमात्मा की छवि है। उनके अनुसार, प्रत्येक मनुष्य को अपने आप को पहचानना चाहिए और आत्मा के माध्यम से अद्वैती ब्रह्मा को पहचानना चाहिए।

स्वामी विवेकानंद ने अपनी अद्वैती वेदांत दर्शन को विश्व में प्रस्तुत किया और वेदांत के सिद्धांतों को नया जीवन दिया। उन्होंने वेदांत के सिद्धांतों का संक्षेप में प्रदर्शन किया और लोगों को उनकी जीवनशैली के प्रतीक्षा द्वारा प्रेरित किया। उनके विचारों में निहित थे: सामराज्य्य, परिवर्तन, स्वदेशी, और सभ्यता की ओर अभिनव विचार आदि।

10. Swami Vivekananda Biography in Hindi- बीमारियाँ

Swami Vivekananda Biography in Hindi उनकी बिमारियों को भी व्यक्त करती हैं। स्वामी विवेकानन्द ने अपने पूरे जीवन में आश्चर्यजनक रूप से 31 बीमारियों और बीमारियों को सहन किया, जिनमें लीवर और किडनी की क्षति, अनिद्रा, माइग्रेन, अस्थमा और मधुमेह शामिल थे। स्वामी विवेकानंद को संख्यात रोग से भी जूझना पड़ा, और इसके बावजूद वे अपनी सामरिक, मानसिक और आध्यात्मिक शक्ति से अपने कार्यों को प्रभावी ढंग से चला रहे थे। विवेकानंद को अपरिचित रोग में भी अपना पूरा द्युति दिखाने में कोई कमी नहीं आई। बाद में, उन्होंने नवम्बर 1901 में अपना अंतिम यात्रा शुरू किया था और 4 जुलाई 1902 को उनकी मृत्यु हो गई।

11. Swami Vivekananda Biography in Hindi- मृत्यु

Swami Vivekananda Biography in Hindi में उनके मृत्यु के बारे में भी चर्चा की गई है। स्वामी विवेकानन्द ने अक्सर कहा था कि वह 40 वर्ष से अधिक जीवित नहीं रहेंगे। ऐसा कहा जाता है कि 39 वर्ष की आयु में उनका निधन हो गया, जो उनकी अपनी भविष्यवाणी के बिल्कुल करीब था। स्वामी विवेकानंद की मृत्यु वनवास के दौरान हुई थी, जब वे मेडिटेशन के लिए चिल्लाफिरोशी के सवेरे दे रहे थे। वनवास के दौरान, उन्होंने अपने शिष्यों के सामरिक, मानसिक और आध्यात्मिक शिक्षान्तर को दिया। उन्होंने उन्हें अपनी उपयोगी बातें सिखाई और उन्हें गाइड किया कि वे अपना जीवन ध्यान, समर्पण और निष्ठा के साथ जियें।

12. Swami Vivekananda Biography in Hindi- Legacy and Relevance Today

स्वामी विवेकानंद के प्रभाव को आज भी देखा जा सकता है। उनके विचारों और आध्यात्मिक ग्यान की वजह से, वे आधुनिक भारत के एक महान आध्यात्मिक नेता के रूप में माने जाते हैं। आज के समय में भी, उनके विचारों और समय-समय पर एकत्र किए गए भाषणों का महत्व प्राथमिक है। आध्यात्मिकता के क्षेत्र में स्वामी विवेकानंद का योगदान महत्त्वपूर्ण है और उनके विचारों को परम्परागत और आधुनिक परिपेक्ष्य में उत्पादन किया जाता है। उनके द्वारा बनाए गए संगठन और मठ आज भी उनकी वाणी का मार्गदर्शन कर रहे हैं।

13. स्वामी विवेकानंद द्वारा लिखित पुस्तकें

स्वामी विवेकानन्द, जिन्हें नरेन्द्र नाथ दत्त के नाम से भी जाना जाता है, एक प्रसिद्ध भारतीय दार्शनिक और आध्यात्मिक नेता थे, जिन्होंने पश्चिमी दुनिया में वेदांत और योग की शुरुआत में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। उन्हें विभिन्न विषयों की व्यापक समझ थी और उन्होंने जीवन और आध्यात्मिकता के विभिन्न पहलुओं पर विस्तार से लिखा।

स्वामी विवेकानन्द द्वारा लिखित कुछ उल्लेखनीय पुस्तकों में शामिल हैं:

राज योग“: यह पुस्तक राज योग की अवधारणाओं और प्रथाओं की पड़ताल करती है, जो मन और इंद्रियों के नियंत्रण के माध्यम से आध्यात्मिक प्राप्ति का मार्ग है। यह ध्यान, एकाग्रता और आध्यात्मिक ज्ञान की प्राप्ति में अंतर्दृष्टि प्रदान करता है।

कर्म योग“: इस पुस्तक में, स्वामी विवेकानन्द कर्म योग के सिद्धांत की व्याख्या करते हैं, जो परिणामों के प्रति लगाव के बिना निस्वार्थ कर्म और कर्तव्य के प्रति समर्पण पर जोर देता है। वह पाठकों को अपने दैनिक कार्यों को भक्ति और सेवा के कार्यों में बदलने के बारे में मार्गदर्शन करते हैं।

भक्ति योग“: यह पुस्तक भक्ति योग के दर्शन, भगवान के प्रति भक्ति और प्रेम के मार्ग पर प्रकाश डालती है। स्वामी विवेकानन्द भक्ति के विभिन्न रूपों, एक सच्चे भक्त के गुणों और भक्ति योग के अभ्यास के तरीकों पर चर्चा करते हैं।

ज्ञान योग“: स्वामी विवेकानंद ज्ञान योग के मार्ग की खोज करते हैं, जो ज्ञान प्राप्त करने और अंतिम सत्य को समझने पर केंद्रित है। वह विभिन्न दार्शनिक अवधारणाओं पर चर्चा करते हैं और विवेक और आत्म-जांच के माध्यम से आत्म-साक्षात्कार प्राप्त करने के तरीके सुझाते हैं।

माई मास्टर“: यह पुस्तक स्वामी विवेकानन्द के गुरु, श्री रामकृष्ण परमहंस की गहन शिक्षाओं और व्यक्तिगत अनुभवों को प्रस्तुत करती है। यह श्री रामकृष्ण की आध्यात्मिक प्रथाओं, अंतर्दृष्टि और दिव्य अनुभवों में अंतर्दृष्टि प्रदान करता है, जैसा कि उनके शिष्य ने बताया था।

लेक्चर्स फ्रॉम कोलंबो टू अल्मोडा“: इस पुस्तक में स्वामी विवेकानंद द्वारा कोलंबो, श्रीलंका से अल्मोडा, भारत की यात्रा के दौरान दिए गए व्याख्यानों का संग्रह शामिल है। इसमें वेदांत दर्शन, आध्यात्मिकता, सामाजिक मुद्दे और धर्मों की सद्भावना सहित विषयों की एक विस्तृत श्रृंखला शामिल है।

प्रेरित वार्ता“: इस पुस्तक में, स्वामी विवेकानन्द ने अपने शिष्यों और प्रशंसकों द्वारा पूछे गए विभिन्न प्रश्नों पर अपनी सहज प्रतिक्रियाएँ साझा की हैं। यह आध्यात्मिकता, दर्शन और जीवन के व्यावहारिक पहलुओं पर उनकी शिक्षाओं में मूल्यवान अंतर्दृष्टि प्रदान करता है।

ये पुस्तकें स्वामी विवेकानन्द के दार्शनिक विचारों, आध्यात्मिक प्रथाओं और सार्थक और उद्देश्यपूर्ण जीवन जीने के लिए व्यावहारिक सलाह की व्यापक समझ प्रदान करती हैं। वे आध्यात्मिक विकास और आत्म-साक्षात्कार की खोज में लोगों को प्रेरित और मार्गदर्शन करते रहते हैं।

14. स्वामी विवेकानन्द – 10 famous Quotes

स्वामी विवेकानन्द के प्रभावशाली शब्द पीढ़ी-दर-पीढ़ी व्यक्तियों को प्रेरणा देते रहते हैं। यहां स्वामी विवेकानन्द के दस प्रसिद्ध उद्धरण दिए गए हैं:

  1. “Arise, awake, and stop not until the goal is reached.” उठो, जागो और तब तक नहीं रुको जब तक लक्ष्य प्राप्त न हो जाए।
  2. “In a conflict between the heart and the brain, follow your heart.” मन और दिमाग के बीच युद्ध में, मन की सुनो।
  3. “Take risks in your life. If you win, you can lead, if you lose, you can guide.” अपने जीवन में जोखिम उठाओ। अगर जीते हो तो नेतृत्व करो, और अगर हारोगे, तो मार्गदर्शन करो।
  4. “You have to grow from the inside out. None can teach you, none can make you spiritual. There is no other teacher but your own soul.” आपको अंदर से बढ़ना होगा। कोई आपको पाठशाला में सबक नहीं सिखा सकता है, कोई आपको आध्यात्मिक नहीं बना सकता। आपका अपनी ही आत्मा ही शिक्षक है।
  5. “The greatest religion is to be true to your own nature. Have faith in yourselves.” सबसे महान धर्म अपने स्वाभाव के साथ सच्चे रहना है। अपने आप पर विश्वास रखो।
  6. “Strength is life, weakness is death.” शक्ति जीवन है, कमजोरी मौत है।
  7. “You will be nearer to heaven through football than through the study of Gita.” गीता की अध्ययन करने के बजाय फुटबॉल से आप स्वर्ग के नजदीक पहुंचेंगे।
  8. “Condemn none: if you can stretch out a helping hand, do so. If you cannot, fold your hands, bless your brothers, and let them go their own way.” किसी की निंदा न करें: यदि आप किसी की मदद कर सकते हैं, तो अवश्य करें। यदि आपकर नहीं सकते, तो प्रार्थना करें, अपने भाईयों को आशीर्वाद दें, और उन्हें अपनी राह चलने दें।
  9. “The greatest sin is to think yourself weak.” सबसे बड़ा पाप यह सोचना है कि आप कमजोर हैं।
  10. “Stand up, be bold, be strong. Take the whole responsibility on your own shoulders, and know that you are the creator of your destiny.” खड़े हो जाइए, साहसी बनिए, मजबूत बनिए। अपने कंधों पर सम्पूर्ण जिम्मेदारी ले लीजिए, और जान लीजिए कि आप अपने भाग्य के निर्माता हैं।

15. Swami Vivekananda Biography in Hindi– महत्वपूर्ण तिथियाँ

YearEvent
1863Swami Vivekananda’s birth in Kolkata
1871Enrolled at Ishwar Chandra Vidyasagar’s Institution and later at Presidency College, Calcutta
1880Met Ramakrishna Paramhansa and became his disciple
1885Ramakrishna Paramhansa passed away
1887Vivekananda and other disciples took vows of monkhood and lived together at Baranagar, Kolkata
1893Participated in the World Parliament of Religions in Chicago and gained international recognition
1897Founded Ramakrishna Mission for the welfare of the world
1902Passed away while meditating in Belur Math, Kolkata

Swami Vivekananda Biography in Hindi- FAQ

  1. स्वामी विवेकानंद का परिचय कैसे दें?

    स्वामी विवेकानंद (Swami Vivekananda) एक प्रमुख आध्यात्मिक गुरु, संदेशवाहक और स्वतंत्रता सेनानी थे। उनका वास्तविक नाम नरेन्द्र नाथ दत्त (Narendra Nath Datta) था। उनका जन्म 12 जनवरी 1863 को कोलकाता (अब कोलकाता) में हुआ। स्वामी विवेकानंद ने अपने गुरु, रामकृष्ण परमहंस (Ramakrishna Paramhansa) के प्रभाव में आकर आध्यात्मिक और सामाजिक क्षेत्र में महत्वपूर्ण योगदान दिया। उनका मानना था कि हर व्यक्ति में अमूल्य आत्मा का अस्तित्व होता है और हमें अपनी यही आंतरिक शक्ति खोजनी चाहिए। वह भारतीय संस्कृति, दर्शन, तात्त्विक ज्ञान, जीवन कौशल और स्वतंत्रता के मुद्दों पर प्रमुख विचारक थे।

  2. स्वामी विवेकानंद को कितनी बीमारी थी?

    ऐसा कहा जाता है कि स्वामी विवेकानन्द जी को 31 बीमारियाँ थीं। उनकी स्वास्थ्य समस्याओं में आंत प्रदेश की बीमारी, इन्फ्लुएंजा, चर्म रोग, मांसपेशियों की खसलत, मिस्कैटो फीवर, तरलता या बांझपन, डायअबिटीज, ब्लडप्रेशर, खांसी-जुकाम, आंख की बीमारियाँ, चश्मा लगना, थकान आदि शामिल थीं।

  3. विवेकानंद जी का नारा क्या था?

    स्वामी विवेकानंद का प्रसिद्ध नारा था “उठो, जागो और तब तक मत रुको जब तक मंजिल प्राप्त न हो जाए।” यह नारा उनके भारतीय धर्म महासभा में भारत की प्रतिष्ठित प्रतिनिधित्व करते हुए दिया गया था। यह नारा उनके संबोधन का महत्वपूर्ण हिस्सा था और इसे लोगों में प्रेरणा के लिए काफी प्रचलित किया जाता है।

  4. स्वामी विवेकानंद कितने घंटे ध्यान करते थे?

    स्वामी विवेकानंद ध्यान में खुद को समर्पित करके अपनी आंतरिक शक्ति को जागृत करने का महत्वपूर्ण माना करते थे। वे रोजाना कम से कम 6 घंटे तक ध्यान करते थे। उन्होंने ध्यान की अद्भुत शक्ति को अपना बनाया और इसे अपनी आध्यात्मिक साधना के रूप में प्रयोग किया।

  5. विवेकानंद 5 अंक कौन थे?

    स्वामी विवेकानंद को “5 एकादश” के रूप में भी जाना जाता है। इसका अर्थ है कि उन्होंने धरती पर जन्म लेते ही पांच जीवनीय प्रमुखताओं को पूरा कर लिया था। इन पांच प्रमुखताओं का वर्णन निम्नानुसार है:
    1. एकान्त श्रद्धा: स्वामी विवेकानंद एकान्त में विश्वास रखते थे और ध्यानावस्था में पूर्ण समर्पण करते थे। वे अमर हिंदू धर्म के प्रदर्शन करते थे और वैदिक ज्ञान परायण थे।
    2. विवेकप्रद: स्वामी विवेकानंद एक विमर्शक, विवेकमयी सोच और बुद्धिमान थे। उन्होंने तत्त्वविचार, वैज्ञानिक विचारधारा और न्यायशास्त्र में गहराई से अध्ययन किया।
    3. कर्मयोगी: स्वामी विवेकानंद एक अद्वैत वेदांती और कर्मयोगी थे। उन्होंने कर्म का महत्व समझा और अपनी कार्यशीलता के माध्यम से धार्मिक महत्वपूर्ण कार्यों को साधारित किया।
    4. भक्ति जीवन: स्वामी विवेकानंद दिव्यता, शांति और कृपा का प्रतीक थे। उन्होंने अपने शिष्यों के प्रति अनुकंपा का प्रदर्शन किया और परोपकार के महत्व को सिद्ध किया।
    5. ज्ञानी जीवन: स्वामी विवेकानंद एक ज्ञानी और ब्रह्मज्ञानी थे। उन्होंने आध्यात्मिक अन्वेषण में महत्वपूर्ण योगदान दिया और उच्चतम ज्ञान का अनुभव किया।

  6. विवेकानंद इतना प्रसिद्ध क्यों है?

    स्वामी विवेकानंद एक प्रमुख आध्यात्मिक गुरु थे और उनका प्रभाव आध्यात्मिकता, नैतिकता और राष्ट्रीयता के क्षेत्र में व्यापक है। उनके विचारों और संदेशों की महत्वपूर्ण योगदान ने उन्हें इतने प्रसिद्ध और प्रभावशाली बना दिया है। विवेकानंद ने अपनी अमर बानी के माध्यम से लोगों को सुझाव दिए हैं और उन्हें उद्धार करने के लिए प्रेरित किया है।

  7. स्वामी विवेकानंद का दिमाग इतना तेज क्यों था?

    स्वामी विवेकानंद का दिमाग उनकी उच्च बुद्धिमत्ता का प्रतीक है। वे विचारशीलता, तार्किकता, शार्प सोच, और तेजस्वी स्मृति के लिए प्रसिद्ध थे। उनकी दृष्टि में भारतीय संस्कृति और दर्शन को पठारों के मध्य छिद्रों को चीजों के मध्य बिछाने के लिए प्रेरित किया था। उन्होंने संघर्ष के बावजूद विचारों और आध्यात्मिक साधना में आगे बढ़ना चुना।

  8. स्वामी विवेकानंद रात में कितने घंटे सोते थे?

    स्वामी विवेकानंद रात में करीबन 4-5 घंटे सोते थे। यह ध्यान और आध्यात्मिक साधना के लिए आवश्यक था और वे रोजाना 3 बजे उठते और ध्यान करने के लिए तत्पर रहते थे। उन्होंने अपने जीवन में नियमित योगाभ्यास और मेधा शक्ति को विकसित करने की प्रमुखता दी।

  9. स्वामी विवेकानंद कितने दिन जीवित रहे?

    स्वामी विवेकानंद 12 जनवरी 1863 को जन्मे थे और 4 जुलाई 1902 को उनकी मृत्यु हो गई थी, जिससे उनकी कुल आयु 39 वर्ष होती है।

  10. विवेकानंद की मृत्यु कैसे हुई?

    स्वामी विवेकानंद की मृत्यु 4 जुलाई 1902 को हुई। उनका निधन बेलूर मठ, बंगाल (अब बेलूर, पश्चिम बंगाल) में हुआ। उन्हें मठ के एक कमरे में बिना रोग के जाने के कारण मृत्यु हुई।

Read More

Connect With us on

Facebook

Telegram

Leave a Comment

11 unknown but interesting facts about Swami Vivekananda Vivek Ramaswamy: An Extraordinary Journey of Success and Entrepreneurship GSSSB CCE Clerk Recruitment 2024 Avoid Committing these 10 Mistakes in JEE Mains 2024 Exam DSSSB Jobs 2023: 108 ऑफिसर पदों पर निकली भर्तियां